इस शेयर ने 2800% की वापसी दी है, प्रोडक्शन क्षमता दोगुनी हो गई है, विदेशी निवेशकों का हिस्सा बढ़ा है, और जल्द ही यह शेयर तेजी में बढ़ सकता है।

6 फरवरी 2009 को, भंसाली इंजीनियरिंग पॉलिमर्स के शेयर 4.33 रुपए के स्तर पर थे, और इस समय तक निवेशकों को 2800% का बंपर रिटर्न प्राप्त हुआ है।

शुक्रवार को शेयर बाजार में भंसाली इंजीनियरिंग पॉलिमर्स के शेयरों में चार फ़ीसदी की तेजी देखी गई, जिससे इसकी मूल्य मजबूती से 4.25 रुपए बढ़कर 115.45 रुपए पर पहुंच गई। इस गति में, इसकी मार्केट कैप लगभग 2850 करोड़ रुपए तक पहुंची, जबकि इसके 52 हफ्ते के उच्चतम स्तर और निचले स्तर 117 रुपये और 58 रुपए रहे हैं। भंसाली इंजीनियरिंग पॉलिमर्स के शेयरों ने पिछले 1 महीने में 10% की वृद्धि, पिछले 6 महीने में 24%, और पिछले 1 साल में 50% की वृद्धि की है।

28 मार्च 2023 को शेयर बाजार में कमजोरी के दौरान भंसाली इंजीनियरिंग पॉलिमर्स के शेयर 58 रुपए के निचले स्तर पर पहुंचे थे, जहां से निवेशकों की पूंजी दोगुनी हो गई है।

कोरोना संकट की अवधि में, भंसाली इंजीनियरिंग पॉलिमर्स के शेयरों ने 3 अप्रैल 2020 को 19 रुपए के निचले स्तर पर चले गए थे, जहां से निवेशकों को 500 फीसदी का रिटर्न प्राप्त हुआ है।

6 फरवरी 2009 को, भंसाली इंजीनियरिंग पॉलिमर्स के शेयर 4.33 रुपए के स्तर पर थे, और इस समय तक निवेशकों को 2800% का बंपर रिटर्न मिल चुका है। भंसाली इंजीनियरिंग पॉलिमर्स ने टोयो इंजीनियरिंग इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के साथ फ्रंट एंड इंजीनियरिंग डिजाइन और कैपेक्स्ट कॉस्ट ऐस्टीमेशन के लिए एक करार किया है।

भंसाली इंजीनियरिंग पॉलिमर्स अपनी प्रोडक्शन कैपेसिटी को 75000 टीपीए से 1.45 लाख टीपीए तक बढ़ाना चाहती है। कंपनी के राजस्थान के आबूरोड और मध्य प्रदेश के सतनूर में दो प्लांट्स हैं। भंसाली इंजीनियरिंग पॉलिमर्स के मुनाफे में पिछले 3 साल से 27 फ़ीसदी की वार्षिक वृद्धि हो रही है। भंसाली इंजीनियरिंग पॉलिमर्स निवेशकों को 75 फीसदी का डिविडेंड देने वाली एक कंपनी है।

अगर आप भी शेयर बाजार में निवेश से बंपर कमाई करना चाहते हैं तो विदेशी निवेशकों की पसंद में शामिल भंसाली इंजीनियरिंग पॉलिमर्स के शेयरों पर दांव लगा सकते हैं।

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *